भारत इंडसइंड बैंक के जू. ब्रांच मैनेजर ने किया ग्राहक से दुर्व्यवहार

 | 
भारत इंडसइंड बैंक के जू. ब्रांच मैनेजर ने किया ग्राहक से दुर्व्यवहार

अवधनामा संवाददाता

बरहज । भारत इंडसइंड बैंक लिमिटेड के जूनियर ब्रांच मैनेजर  कर्मचारियों द्वारा किये जा रहे घपलेबाजी की शिकायत लेकर पहुँचे ग्राहक पर आक्रोशित हो गये और  दुर्व्यवहार किया । बैंक से लोन ली हुयी कई महिला ग्राहक कर्मचारियों व अधिकारियों की इस घपलेबाजी व दुर्व्यवहार से सांसत में हैं । बैंक के कर्मचारी नवीन बिंद व अन्य कर्मचारियों की मनमानी से परेशान ग्राहक सरिता के परिवार के सदस्य कुछ दिन पहले शिकायत लेकर बरहज स्थित ब्रांच पर पहुँचे जहाँ सुजीत सिंह ने हिसाब के बारे में जानकारी के लिये ग्राहक को किसी अन्य दिन ब्रांच पर लाने को कहा । फोन करने पर कहते थे आज नही दूसरे दिन आइये, इसी तरह कई दिनों तक टालते रहे ।  27 सितम्बर को ग्राहक के साथ परिवार के सदस्य ब्रांच पर पहुंचे जहाँ सुजीत सिंह द्वारा अपने तरीके से जमा सम्बंधित जानकारी बतायी जा रही थी जिस पर ग्राहक के परिजन द्वारा विवरण पूर्ण जानकारी मांगा गया जिस पर उन्होंने अशोभनीय भाषा में कहा कि इसके लिये वकील बुलाना पड़ेगा, जा कवनो वकील के बोला के लिया अईहा । सुजीत सिंह ने कहा कि लॉकडाउन के दौरान तीन महीने तक ब्रांच पर ताला लगा था और क़िस्त की वसूली किसी ग्राहक से नही की गयी है जबकि इस दौरान कर्मचारियों द्वारा पैसा जमाया कराया जा रहा था । जमा डिटेल्स मांगने पर सुजीत सिंह बुरी तरह भड़क गये और इस दौरान  ब्रांच मैनेजर की मौजूदगी में कई महिलाओं के सामने ही काफी आगबबूला हो गये, साथ ही अशोभनीय शब्दो का प्रयोग करते हुये दुर्व्यवहार के साथ मारपीट पर उतारू हो गये । जूनियर ब्रांच मैनेजर के इस दुर्व्यवहार से आहत व सहमे ग्राहक व उसके परिजन वापस घर लौट आये ।

वहीं इस बैंक से लोन ली हुयी अन्य महिलाओं ने कहा कि नवीन बिंद व अन्य कर्मचारियों द्वारा हम लोंगों से क़िस्त लेकर जमा नही किया जा रहा है साथ ही बैंक द्वारा हम लोंगों का क्रेडिट भी खराब कर दिया जा रहा है जिससे अन्य बैंक हमें लोन नही दे रहे हैं जिसका खामियाजा हम आर्थिक समस्याओं के रूप में भुगत रहे हैं । कर्मचारियों व अधिकारियों की मिलीभगत से हम सभी का शोषण किया जा रहा है और इसी तरह दुर्व्यवहार किया जा रहा है । कुछ मामलों में जब लोन खत्म करने का समय हो रहा है या किसी को शक हो रहा है की हमारा हिसाब गड़बड़ किया जा रहा है तब इस गोलमाल की पोल खुल रही है । आक्रोशित महिलाओं ने कहा कि अगर जल्द ही हम लोंगों की समस्याओं का निदान और ऐसे कर्मचारियों व अधिकारियों पर कार्रवाई नही किया गया तो बड़ा आंदोलन किया जायेगा ।