विद्यालयों में रही शिक्षक दिवस की धूम , शिक्षकों को उपहार देकर किया सम्मानित

 | 
विद्यालयों में रही शिक्षक दिवस की धूम , शिक्षकों को उपहार देकर किया सम्मानित
अवधनामा संवाददाता 

अयोध्या(Ayodhya)।  विद्यालयों में शिक्षक दिवस बड़ी धूमधाम से मनाया गया। इसमें बच्चों ने शिक्षकों का आभार प्रकट किया तथा उन्हें उपहार देकर सम्मानित किया। इस मौके पर मुख्य अतिथि के रूप में जन जागरण माध्यमिक विद्यालय के प्रबंधक लोकेश कुमार द्विवेदी एवं वरिष्ठ समाजसेवी सियाराम चैरिटेबल ट्रस्ट के अध्यक्ष रामानुज सिंह रामा उपस्थित रहे मुख्य अतिथि लोकेश कुमार द्विवेदी ने बच्चों को संबोधित करते हुए बताया कि आज ही के दिन देश के पहले उपराष्ट्रपति महान शिक्षाविद डॉक्टर सर्वपल्ली राधाकृष्णन का जन्म दिवस होता है इनको 27 बार नोबेल पुरस्कार के लिए नामित किया गया था 1954 में उन्हें भारत रत्न से सम्मानित किया गया तथा उन्होंने यह भी बताया शिक्षक हमारे समाज को महत्वपूर्ण योगदान देते समाज के निर्माण में इनकी बहुत बड़ी भूमिका होती है यह हमारे मार्गदर्शक होते हैं शिक्षक का स्थान माता-पिता से भी ऊंचा होता है माता पिता बच्चों को जन्म जरूर देते हैं लेकिन शिक्षक उनके चरित्रों को आकार देकर उज्जवल भविष्य की नींव तैयार करते हैं इसलिए हमें शिक्षकों का सम्मान हमेशा करना चाहिए कार्यक्रम के समापन पर वरिष्ठ समाजसेवी रामानुज सिंह ने  बताया कि बच्चों को पढ़ाई के साथ-साथ शारीरिक एवं आध्यात्मिक ज्ञान भी होना बहुत जरूरी है जिससे कि बच्चा स्वस्थ रहे तथा समाज में एक महत्वपूर्ण योगदान दे सकें शिक्षक हमेशा बच्चों को एक अच्छा इंसान बनाने की कोशिश करते हैं इसलिए हम कितने भी ऊंचे उठ जाएं हमको शिक्षकों का सम्मान हमेशा करना चाहिए कार्यक्रम के अंत में विद्यालय प्रबंधक धर्मपाल पांडे ने सभी मुख्य अतिथियों को सम्मान सहित अंग वस्त्र देकर सम्मानित किया तथा उनका आभार प्रकट किया। इसी तरह मां शांति सेवा फाउंडेशन बेनीगंज कार्यालय पर शिक्षक दिवस के अवसर पर शिक्षा प्रेरक महात्मा ज्योतिबा राव फूले, सावित्री बाई फुले एवम डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन के चित्र पर मुख्य अतिथि डॉ. फौजदार यादव एसो. प्रोफेसर साकेत महाविद्यालय संस्था संरक्षक वसंत राम , अध्यक्ष नेहा कुमारी , विनय प्रकाश मौर्य एवं सभी ने संयुक्त रूप से माल्यार्पण कर  पुष्प अर्पित किया। मुख्य अतिथि फौजदार यादव को संरक्षक बसंत राम एवं अध्यक्ष नेहा कुमारी ने माल्यार्पण कर एवं संचालक विनय प्रकाश मौर्य ने बैज लगाकर स्वागत किया। विशिष्ट अतिथि श्रीमती वंदना पटेल अध्यापिका जी को अध्यक्ष नेहा कुमारी ने माल्यार्पण कर स्वागत किया  डॉक्टर पीयूष कुमार श्रीवास्तव जी को सदस्य इंद्रजीत ने माल्यार्पण कर स्वागत किया। इस अवसर पर मुख्य अतिथि डॉक्टर फौजदार यादव ने संस्था द्वारा शिक्षक दिवस हीरक जयंती समारोह मनाए  जाने की प्रशंसा करते हुए कहा शिक्षक का सम्मान तभी है जब उसके विद्यार्थी एक अच्छी राह पर चलें और उच्च स्थान स्थान प्राप्त करें। पशु पक्षी जनमानस शिक्षा के क्षेत्र में कार्य कर रही संस्था को बधाई दी। विशिष्ट अतिथि एवं उपस्थित सम्मानित शिक्षक गण आदर्श शिक्षक सम्मान पत्र पाकर अत्यंत गौरवान्वित हुए और कहा शिक्षक का सम्मान ही शिक्षक का आत्म बल बढ़ाता है। संस्थापक बसंत राम ने सभी का स्वागत करते हुए कहा शिक्षक और माता पिता का सम्मान करना जीवन का मूल मंत्र होना चाहिए। शिक्षक और मां बाप बच्चों के उन्नति में प्रेरणादायक होते हैं। अध्यक्ष नेहा कुमारी ने सभी का स्वागत किया और कहा शिक्षक की शिक्षा से विद्यार्थी उन्नति और उच्च स्थान प्राप्त कर सकते हैं।

गायत्री पब्लिक स्कूल रेवतीगंज में शिक्षक दिवस के अवसर पर देश के प्रथम उपराष्ट्रपति डॉक्टर सर्वपल्ली राधाकृष्णन की जयंती धूमधाम से मनाई गई। प्रबंधक उमाशंकर शुक्ला ने कहा कि विश्व के  100 से अधिक देशों में मनाए जाने वाले शिक्षक दिवस का महत्व भारत में अन्य देशों की तुलना में कहीं अधिक है जिसका निर्वहन  गुरु शिष्य प्राचीन काल से ही करते आ रहे हैं। इसके साथ ही साथ उन्होंने चिंता भी जताई आज का युवा वर्ग ज्ञान केंद्रित होने के बजाय आत्म केंद्रित और स्वार्थ केंद्रित होता जा रहा है, जिस पर अभिभावकों को ध्यान देने की जरूरत है ।  उप प्रबंधक रमाशंकर शुक्ल, प्रशासनिक अधिकारी प्रभा शंकर शुक्ल, निरूपा शुक्ला, अंजू, उमेश पांडे ने बच्चों को शिक्षक दिवस की शुभकामनाएं दी। इस अवसर पर अरविंद कुमार, विश्वजीत मौर्या, सुधा पांडेय, मांडवी, मनजीत कौर, प्रिया पांडे, अंशिका शुक्ला आदि की महत्वपूर्ण मौजूदगी रही।

वहीं बाल साक्षरता केंद्र धारा मार्ग पर शिक्षक दिवस समारोह पूर्वक मनाया गया। इस अवसर पर मुख्य अतिथि मनोचा डिग्री कॉलेज कि पूर्व प्राचार्य डॉ. सुमंगला गुप्ता ने कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि भारत के द्वितीय राष्ट्रपति डॉ.  सर्वपल्ली राधाकृष्णन एक महान दार्शनिक, शिक्षाविद एवं आध्यात्मिक चेतना के अग्रदूत रहे हैं शिक्षक दिवस के रूप में उनकी जयंती को मनाना हमारे लिए गौरव की बात है। उनके शिक्षाओं पर चलकर शिक्षक आदर्श नागरिक का निर्माण करके वर्तमान चुनौतियों का मुकाबला कर सकते हैं। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए सजपा प्रदेश अध्यक्ष अशोक श्रीवास्तव ने कहा की शिक्षा का अर्थ केवल रोजगार पाना नहीं बल्कि व्यक्ति का संपूर्ण विकास और मानव की अध्यात्मिक चेतना जागृत कर व्यक्ति और समाज का उत्थान एवं आदर्श नागरिक का निर्माण करना है जिससे वह उत्पन्न होने वाली चुनौतियां और समस्याओं का डटकर मुकाबला करें और उसका सफलतापूर्वक समाधान कर सके। उन्होंने साक्षरता केंद्र की शिक्षिकाओं को कोरोना के आपदा काल में नि:स्वार्थ भाव से ऑनलाइन शिक्षा देने के कार्य की प्रशंसा करते हुए हार्दिक आभार एवं शुभकामनाएं व्यक्त किया।