आत्मदाह की चिठ्ठी मिलते ही अधिकरियों के फूले हाथ-पांव, मौके से पहुंचा प्रशासन

सीएम समेत उच्चाधिकारियों को पत्र भेजकर 26 नवम्बर को आत्मदाह की दी थी चेतावनी

 | 
आत्मदाह की चिठ्ठी मिलते ही अधिकरियों के फूले हाथ-पांव, मौके से पहुंचा प्रशासन

अवधनामा संवाददाता  (शकील अहमद)

कुशीनगर। अहिरौली बाजार थाना क्षेत्र के ग्राम रामपुर माफी निवासी शारदा देवी पत्नी स्वर्गीय गोविंद कुमार गुप्त ने कुछ दिनों पहले उत्तर प्रदेश सरकार के मुख्यमंत्री, जनपद के जिलाधिकारी, पुलिस अधीक्षक और उत्तर प्रदेश के पुलिस महानिदेशक समेत उच्चाधिकारियों को रजिस्टर्ड डाक द्वारा पत्र भेजकर 26 नवंबर 2021 को आत्मदाह करने की सूचना दिया था जिसका संज्ञान लेते हुए कप्तानगंज तहसील प्रशासन ने महिला से बात करने के लिए तहसीलदार कप्तानगंज को भेजा और तहसीलदार ने महिला की समस्या का समाधान करने का आश्वासन दिया जिसके बाद महिला ने अपनी आत्मदाह करने को टाल दिया। 

जानकारी के मुताबिक पीड़ित महिला से गांव के ही कुछ लोगों से जमीनी विवाद है जो अपनी समस्याओं के समाधान के लिए अधिकारियों का परिक्रमा कर रही है लेकिन जब उसे प्रशासन द्वारा न्याय नहीं मिला तो वह प्रदेश के मुख्यमंत्री और आला अधिकारियों को रजिस्टर्ड  पत्र भेजकर  बताया कि यदि मुझे न्याय नहीं मिला तो मै 26 नवम्बर को आत्मदाह कर लूंगी। आत्मदाह करने की धमकी के बाद प्रशासन के हाथ-पांव फूलने लगे और प्रशासन ने इसका संज्ञान लेते हुए महिला को आत्मदाह से रोकने के लिए उसके मामले के समाधान की कोशिश की एवं उसकी समस्या का समाधान करने का निर्णय लिया इसके बाद महिला आज अहिरौली बाजार थाने में पहुंची और थानाध्यक्ष विवेकानंद यादव को आत्मदाह स्थगित करने का एक लिखित पत्र सौंपा जिसमें उसने अपनी समस्याओं के समाधान के  लिए तहसील प्रशासन कप्तानगंज द्वारा आश्वासन पर आत्मदाह की कोशिश को स्थगित कर दिया है इसके बाद प्रशासन ने राहत की सांस लिया। पीड़ित महिला शारदा देवी ने बताया कि मुझे सोमवार को तहसीलदार द्वारा बुलाया गया है। इस संबंध में थानाध्यक्ष विवेकानन्द यादव ने बताया कि महिला अपने पुत्र के साथ आई थी और उसने लिखित रूप में आत्मदाह स्थगित करने का पत्र सौंपा है। इस  बारे में उप जिलाधिकारी कप्तानगंज कल्पना जायसवाल ने बताया कि विधिक प्रक्रिया के तहत महिला की मदद की जाएगी।