एंटी करप्शन की टीम ने घुस लेते लेखपाल को रंगे हाथों पकड़ा

आरक्षण के नाम पर मांगा था पांच हजार रुपये

 | 
एंटी करप्शन की टीम ने घुस लेते लेखपाल को रंगे हाथों पकड़ा

अवधनामा संवाददाता  

कुशीनगर। एंटी करप्शन गोरखपुर की टीम ने जनपद के पडरौना तहसील में कार्यरत लेखपाल उत्कर्ष चौबे को घूस लेते हुए रंगे हटो गिरफ्तार किया है। चार हजार रुपये में अपना इमान बेचने वाले  लेखपाल को रंगे हाथों पकडने के बाद विजिलेंस की टीम ने जरुरी औपचारिकताएं पूरी कर अभियुक्त को लेकर गोरखपुर के लिए रवाना हो गयी। जाता है कि घूस लेते हुए पकडा गया लेखपाल पडरौना तहसील क्षेत्र के पकडियार में तैनात था। 

बता दें कि सदर तहसील क्षेत्र अन्तर्गत ग्राम सिरसिया बुजुर्ग के टोला कोहडा निवासी दीपक उपाध्याय ने सवर्ण जाति के कमजोर वर्ग के लोगो को मिलने वाली आर्थिक सहयोग योजना के तहत इडब्लूएस प्रमाण पत्र लेने के लिए आवेदन किया था। बताया जाता है कि हल्का लेखपाल उत्कर्ष चौबे ने इडब्लूएस प्रमाण पत्र के लिए आवेदक दीपक चौबे से पांच हजार रुपये की मांग की थी। इसके बाद दीपक ने इसकी शिकायत गोरखपुर एंटी करप्शन को किया। विभागीय सूत्रो के मुताबिक शिकायत की गहन जांच के बाद एंटी करप्शन गोरखपुर की टीम शुक्रवार को प्रभारी हरिकेश शुक्ला के नेतृत्व मे जिला मुख्यालय रवींद्रनगर पहुची। यहा जिलाधिकारी से अनुमति लिया और डीएम द्वारा नामित प्रतिनिधि को साथ लेकर सदर तहसील पहुचे, जहां टीम के मौजूदगी मे शिकायतकर्ता दीपक उपाध्याय ने लेखपाल उत्कर्ष चौबे को जैसे ही पांच हजार रुपये दिए विजिलेंस टीम ने रंगे हाथो घूस लेते हुए लेखपाल को धर दबोचा। विजिलेंस की इस कार्रवाई से तहसील मे हडकंप मच गया। इसके बाद टीम ने डीएम द्वारा नामित अधिकारियों के समक्ष जरुरी औपचारिकताएं पूरी कर अभियुक्त को लेकर गोरखपुर के लिए रवाना हो गयी। टीम मे अनुज यादव, ईश्वर सिंह सहित अन्य लोग शामिल रहे।