हमीरपुर के राठ में घूसखोर प्रधानाचार्य को एंटी करप्शन टीम ने दबोचा

 | 
हमीरपुर के राठ में घूसखोर प्रधानाचार्य को एंटी करप्शन टीम ने दबोचा 

अवधनामा संवाददाता हिफजुर्रहमान 

हमीरपुर :स्थानीय ब्रह्मानंद इण्टर कॉलेज के प्रभारी प्रधानाचार्य को लखनऊ से आई एंटी करप्शन टीम ने इंक्रीमेंट के नाम पर शिक्षक से पंद्रह हजार रुपए की घूस लेते हुए रंगेहाथों दबोच लिया। इससे कुछ देर के लिए कॉलेज परिसर में हड़कंप मच गया। आंधी की तरह आई टीम प्रधानाचार्य को दबोचकर अपने साथ ले गई। समाचार लिखे जाने तक टीम हमीरपुर कोतवाली में प्रधानाचार्य को लेकर पहुंची औ यहीं से एफआईआर की कार्यवाही करती रही।

स्वामी ब्रह्मानंद इण्टर कॉलेज कस्बे का प्रतिष्ठित कॉलेज है। प्रबंध तंत्र से संचालित होने वाले इस अशासकीय कॉलेज में अक्सर विवाद भी होता रहा है। इसी कॉलेज में सुघर सिंह रसायन विज्ञान के प्रवक्ता के पद पर कार्यरत हैं। उन्होंने बताया कि जुलाई 2021 की वार्षिक वेतनवृद्धि (एंक्रीमेंट) प्रभारी प्रधानाचार्य नरेशचंद्र आर्य द्वारा नहीं लगाया जा रहा था। इसके एवज में पंद्रह हजार रुपए घूस की मांग की जा रही थी। सुघर सिंह ने बताया कि उन्होंने प्रधानाचार्य से मिलकर कई बार अपनी बात रखी और इंक्रीमेंट लगाने का अनुरोध किया, लेकिन वह पंद्रह हजार रुपए की मांग पर अड़े रहे। जिसके चलते उन्होंने यूनाइटेड टीचर्स एसोसिएशन (यूटा) के प्रदेश संयुक्त महामंत्री रमाकांत शुक्ला से संपर्क किया, जिन्होंने उन्हें लखनऊ एंटी करप्शन मुख्यालय भेजा। 

रमाकांत ने बताया कि लखनऊ में सुघर सिंह ने एंटी करप्शन टीम के सामने अपनी शिकायत दर्ज कराई और इसी के बाद टीम ने प्रधानाचार्य को रिश्वत के साथ रंगेहाथों गिरफ्तार करने का तानाबाना बुना। 

मंगलवार की सुबह प्रवक्ता सुघर सिंह कॉलेज पहुंचे और प्रधानाचार्य से मिलकर फिर से अपनी इंक्रीमेंट की बात दोहराई। प्रधानाचार्य पंद्रह हजार रुपए की डिमांड पूरी करने की बात कहने लगी। सुघर सिंह ने एंटी करप्शन टीम द्वारा पाउडर लगाकर दिए गए पंद्रह हजार रुपए प्रधानाचार्य को थमा दिए। बस इसी के बाद टीम प्रधानाचार्य कक्ष में दाखिल हुई और उन्हें वहीं पर नोटों के साथ दबोच लिया। यह सब कुछ इतनी जल्दी हुआ की प्रधानाचार्य के होश फाख्ता हो गए। टीम उन्हें कक्ष से दबोचकर बाहर लेकर आई। नजारा देखकर कॉलेज परिसर में भी हड़कंप की स्थिति बन गई। लेकिन टीम बगैर समय गंवाए प्रधानाचार्य को गाड़ी में लादकर अपने साथ मुख्यालय ले गई। शाम तक प्रधानाचार्य को टीम ने सदर कोतवाली में ही अपनी कस्टडी में रखा हुआ था। टीम प्रधानाचार्य के खिलाफ भ्रष्टाचार की धाराओं में एफआईआर दर्ज कराने की तैयारी है। देर रात प्रधानाचार्य को अपने साथ लखनऊ ले जाकर कोर्ट में पेश करेगी। 

यूटा के प्रदेश संयुक्त महामंत्री रमाकांत शुक्ला ने बताया कि उनके संगठन ने प्रदेश में अब तक 190 रिश्वतखोर अधिकारियों-कर्मचारियों की एंटी करप्शन टीम की मदद से गिरफ्तारी करवाई है। अकेले जनपद में इस प्रधानाचार्य को मिलाकर अब तक पांच लोग गिरफ्तार हो चुके हैं और कई लोग संगठन की लिस्ट में है, जिनकी देर-सवेर गिरफ्तारी हो ही जाएगी।