मण्डलायुक्त एवं जिलाधिकारी के प्रयासों से जनपद में पहुंच 1900 मी0टन खाद

 | 
मण्डलायुक्त एवं जिलाधिकारी के प्रयासों से जनपद में पहुंच 1900 मी0टन खाद

अवधनामा संवाददाता  (अजय श्रीवास्तव) 

ललितपुर। मण्डलायुक्त एवं जिलाधिकारी द्वारा जनपद में 04 रैक खाद की उपलब्धता के प्रयासों के क्रम में आर.सी.एफ. की रैक काकीनाड़ा बन्दरगाह से चलकर आज जनपद में पहुंच चुकी है, जिसमें 1900 मी0टन खाद लदी हुई है। मण्डलायुक्त के विशेष प्रयासों के कारण काकीनाड़ा से 96 घण्टे की दूरी मात्र 36 घण्टे में तय कर आर.सी.एफ. की रैक जनपद पहुंची है। पहली बार डी.ए.पी. खाद की रैक जनपद में उतारी गई है, इससे पूर्व खाद की रैक झांसी जनपद में उतारी जाती थी। आई.पी.एल. की खाद से भरी रैक मुद्रापोर्ट से चलकर कल जनपद पहुंच रही है, उसमें 4100 मी0टन खाद लदी हुई है। इसके अलावा इफ्को की जो रैक पारादीप बंदरगाह से निकल रही है उसमें 2800 मी0टन खाद लदी हुई है, इसके अतिरिक्त देवरिया को भेजे जाने वाली आई0पी0एल0 की खाद जिसकों मण्डलायुक्त एवं जिलाधिकारी महोदय द्वारा लगातार फॉलोअप करके ललितपुर के लिए डायवर्ट कराया गया है, उसमें 2800 मी0टन खाद लदी हुई है, जिसके कल देर रात तक ललितपुर पहुंचने की संभावना है। वर्तमान में यह रैक मुगलसराय से चल चुका है। मण्डलायुक्त एवं जिलाधिकारी द्वारा रेवले के अधिकारियों से लगातार बात कर इन रेलगाडिय़ों के रुट क्लियर कराकर शीघ्र ललितपुर पहुंचने की व्यवस्था करायी जा रही है। मण्डलायुक्त ने अपने भ्रमण के दौरान मड़ावरा और महरौनी तहसीलों की विभिन्न खाद की दुकानों का निरीक्षण किया, निरीक्षण के दौरान उन्होंने राजीव ट्रेडर्स, बालाजी ट्रेडर्स, सिंघई किसान सेवा केन्द्र, शिवशक्ति खाद भण्डार, निरंजन ट्रेडर्स, बाके विहारी इण्टरप्राईजेज, ज्ञानसागर फर्टिलाइजर्स, एसएन ट्रेडर्स आदि दुकानों पर खाद की उपलब्धता एवं वितरण का जायजा लिया। उन्होंने किसानों को आश्वस्त किया कि जनपद में खाद की कोई कमी नहीं है, बाहर से भी खाद की आपूर्ति जनपद में लगातार जारी है, किसान कृषि वैज्ञानिकों की सलाह के अनुसार प्रति एकड़ एक बोरी की दर से खेतों में खाद का प्रयोग करें, इससे उत्पादकता में भी वृद्धि होगी और भूमि की उवर्रकता भी संरक्षित रहेगी। उन्होंने किसानों से अपील की कि वे अफवाहों पर ध्यान न दें, जनपद में खाद की पर्याप्त उपलब्धता है एवं जनपद में लगातार खाद की आपूर्ति भी सुनिश्चित करायी जा रही है।