रोडटेप दरो को एक करने की मांग को लेकर सांसद को सौंपा ज्ञापन

 | 
रोडटेप दरो को एक करने की मांग को लेकर सांसद को सौंपा ज्ञापन

अवधनामा संवाददाता

सहारनपुर (Saharanpur)।हस्तशिल्प निर्यातकों ने आज देश व्यापी आंदोलन के तहत रोडटेप दरों को एक किए जाने की मांग को लेकर आज सांसद हाजी फजलुर्रहमान एवं नगर मजिस्ट्रेट से मुलाकात की और उन्हें इस संबंध में ज्ञापन भी सौंपे।

आज सहारनपुर वुड मैन्युफैक्चरर्स एसोसिएशन के प्रतिनिधि मण्डल ने सांसद हाजी फजलुर्रहमान एवं नगर मजिस्ट्रेट सुरेश कुमार सोनी से भेंट की और सौंपे ज्ञापन में कहा कि केन्द्र सरकार ने निर्यातकों से वर्ष 2021-22 में अमेरिकी डॉलर 400 बिलियन के समग्र निर्यात लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए अतिरिक्त प्रयास करने का आग्रह किया है और हस्तशिल्प निर्यातक भारत के कुल निर्यात में निर्यात के अपने हिस्से को प्राप्त करने के लिए प्रतिबद्ध हैं। महामारी के बावजूद यह क्षेत्र वर्ष 2020-21 में रु 25,679 करोड़ और 1.62 प्रतिशत की मामूली वृद्धि दर्ज करने में सक्षम रहा है और यदि रोडटेप दरों को अनुकूल रूप से देखा जाए, तो यह क्षेत्र आने वाले वर्ष में उच्च विकास के लिए तैयार है। रोडटेप योजना निर्यातकों को एम्बेडेड केंद्रीय राज्य और स्थानीय शुल्क व कर वापस कर देगी, जो अब तक छूट व वापसी नहीं किए जा रहे थे और इसलिए हमारे निर्यात को नुकसान में डाल रहे थे। रिफंड को एक निर्यातक के खाते में सीमा शुल्क के साथ जमा किया जाएगा और आयातित माल पर मूल सीमा शुल्क का भुगतान किया जाएगा। क्रेडिट अन्य आयातकों को भी हस्तांतरित किया जा सकता है।चालू वित्त वर्ष 2020-21 के अप्रैल-मार्च के निर्यात के आंकड़े रुपये पर हैं। पिछले वर्ष की इसी अवधि की तुलना में 1.62 प्रतिशत रुपये और (-) 2.93 प्रतिशत डॉलर की मामूली वृद्धि दर्ज करते हुए 25679.98 करोड़ (यूएसडी 3459.75 मिलियन)। हालांकि, चालू वित्त वर्ष 2021-22 के अप्रैल-जुलाई के अंतिम आंकड़े रुपये पर हैं। 7792.14 करोड़ (1053.34 मिलियन अमरीकी डालर) ने 62.38 प्रतिशत (रुपये मे) और 66.07 प्रतिशत (डॉलर में) की वृद्धि दर्ज की।प्रतिनिधिमंडल में इरफान उल हक, औसाफ गुड्डू, सचिव सोम प्रकाश गोयल, उमेश सचदेवा, शेख फैजान अहमद,सरफत खान, साबिर अली खान, मौ.सहजमा, जुनेद खान टिंकू, अनवर अहमद, जावेद इकबाल, मौ.रिहान, आसिफ अंसारी, फुरकान अहमद, रईस अहमद, चेयमरैन देवबंद नगर पालिका जियाउद्दीन अंसारी शामिल रहे।