जिले में ऑनलाइन सट्टा खिलाने वाले गिरोह का हुआ भाण्डाफोड

अवधनामा संवाददाता ललितपुर (Lalitpur)। युवाओं को शॉर्टकट से रुपये कमाने की लत लगाकर आधुनिक तरीके से ऑनलाइन सट्टा खिलाने वाले गिरोह का सर्विलांस व सीआईडब्ल्यू टीम ने खुलासा किया है। पूरे मामले की जानकारी पुलिस अधीक्षक निखिल पाठक ने पत्रकारों को दी। पुलिस लाइन में आयोजित पत्रकारवार्ता में पकड़े गये गिरोह के तीन सदस्यों को
 | 

जिले में ऑनलाइन सट्टा खिलाने वाले गिरोह का हुआ भाण्डाफोड

अवधनामा संवाददाता

ललितपुर (Lalitpur)। युवाओं को शॉर्टकट से रुपये कमाने की लत लगाकर आधुनिक तरीके से ऑनलाइन सट्टा खिलाने वाले गिरोह का सर्विलांस व सीआईडब्ल्यू टीम ने खुलासा किया है। पूरे मामले की जानकारी पुलिस अधीक्षक निखिल पाठक ने पत्रकारों को दी। पुलिस लाइन में आयोजित पत्रकारवार्ता में पकड़े गये गिरोह के तीन सदस्यों को पेश कर उनके द्वारा किये जा रहे साइबर अपराध को बताया गया।

एसपी निखिल पाठक ने बताया कि जिले में युवाओं को बेवसाइड बनाकर ऑनलाइन सट्टा खिलाने वाले गिरोह पर लम्बे समय से पुलिस की नजर थी। अत्याधुनिक तरीके से होने वाले इस साइबर क्राइम को ट्रेक कर साक्ष्य जुटाने में सर्विलांस व सीआईडब्ल्यू की टीम लगातार जुटी हुयी थी। जिसका परिणाम तीन शातिर सट्टेबाजों को गिरफ्तार कर सामने आया है। उन्होंने बताया कि एएसपी गिरजेश कुमार व सीओ सिटी इमरान अहमद के संयुक्त नेतृत्व में सर्विलांस प्रभारी गुलाम हुसैन व सीआईडब्ल्यू प्रभारी राजकुमार यादव द्वारा कार्यवाही की जा रही थी। तभी मुखबिर ने बताया कि शहर में ऑनलाइन सट्टा खिलाने वाले तीन लोग जेल चौराहा के पास खड़े हैं। पुलिस ने मुखबिर की सूचना पर उक्त लोगों को मौके से पकड़ लिया। पकड़े गये बदमाशों में सिविल लाइन निवासी विकास जैन उर्फ विकास कबाड़ी पुत्र विपिन जैन, मोहल्ला गोविन्दनगर निवासी आमिर खान उर्फ विटटू पठान पुत्र हफीज पठान एवं मोहल्ला घुसयाना निवासी आकाश परिहार पुत्र कल्लू परिहार बताये गये हैं। पकड़े गये बदमाशों के पास से पुलिस ने तीन मोबाइल, एक वनप्लस मोबाइल, 1 बीवो मोबाइल व 2800 रुपये बरामद किये हैं। एसपी निखिल पाठक ने बताया कि उक्त लोग मोबाइल में बेवसाइड को लॉगइन कर यूजर एकाउण्ट बनाये हुये थे, जिसके माध्यम से ऑनलाइन सट्टा खिलाया जा रहा था। पुलिस ने तीनों के खिलाफ सुसंगत धाराओं में मामला दर्ज कर विवेचना शुरू कर दी है।

विकास कबाड़ी के आपराधिक इतिहास के बारे में पुलिस अधीक्षक निखिल पाठक ने बताया कि ऑनलाइन सटटा खिलाने वाले गिरोह में पकड़े गये विकास जैन उर्फ विकास कबाड़ी का पुराना आपराधिक इतिहास है। उन्होंने बताया कि वर्ष 2015 व 2018 में इसके खिलाफ जुआ अधिनियम की धारा 13 जी के तहत मामला दर्ज किया जा चुका है। ऑनलाइन सट्टा कारोबार का खुलासा करने वाली टीम के बारे में एसपी निखिल पाठक ने बताया कि ऑनलाइन सट्टा के काले कारोबार का पर्दाफाश करने में सर्विलांस प्रभारी उ.नि.गुलाम हुसैन, सीआईडब्ल्यू प्रभारी उ.नि.राजकुमार यादव, हे.कां.बलवीर सिंह, कां.अरूण त्रिपाठी, कां.अमित पाठक, कां.अवधेश यादव, कां.तेजप्रताप, कां.रजनीश चौहान, कां.रविन्द्र प्रताप सिंह, कां.आशीष कुमार, कां.बृजेन्द्र सिंह शामिल रहे।