राजभर जाति को अनुसूचित जनजाति में शामिल कराने की मांग को लेकर सौंपा ज्ञापन

अवधनामा संवाददाता आजमगढ़ (Azamgarh)। ऑल इंडिया राजभर आरक्षण समिति के तत्वाधान में संगठन के अध्यक्ष हरीश राजभर के नेतृत्व में भर/राजभर जाति को अनुसूचित जनजाति में शामिल कराने के लिए जिलाधिकारी के माध्यम से मुख्यमंत्री को ज्ञापन प्रेषित किया गया। संगठन के अध्यक्ष हरीश राजभर ने बताया कि केन्द्रीय विभाग के ने अपने एक आर्डर
 | 

अवधनामा संवाददाता

आजमगढ़ (Azamgarh)। ऑल इंडिया राजभर आरक्षण समिति के तत्वाधान में संगठन के अध्यक्ष हरीश राजभर के नेतृत्व में भर/राजभर जाति को अनुसूचित जनजाति में शामिल कराने के लिए जिलाधिकारी के माध्यम से मुख्यमंत्री को ज्ञापन प्रेषित किया गया।
संगठन के अध्यक्ष हरीश राजभर ने बताया कि केन्द्रीय  विभाग के ने अपने एक आर्डर में यह माना है कि भर जाति को एसटी में आरक्षण देने के लिए ट्राइबल अफेयर्स के तरफ से अभी तक कोई प्रस्ताव किसी भी सरकार द्वारा नहीं भेजा गया है। जिसके लिए विश्व राजभर/भर फाउण्डेशन वर्षों से संघर्ष कर रहा है। पूर्वी उत्तर प्रदेश में भर /राजभर समाज के एक बहुत बड़ी आबादी है इसमें अत्यधिक लोग भूमिहीन, गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन करने वाले लोग हैं। लोगों के पास आवास नहीं है। ऐसे में भर / राजभर को अनुसूचित जनजाति में शामिल किया जाए जिससे उनका विकास हो सके। आगे उन्होंने कहा कि अगर सरकार हमारी मांगों को नहीं पूरा करती है तो हम लोग एक बहुत बड़ा राज्यव्यापी आंदोलन करेंगे।
जिलाध्यक्ष धर्मेंद्र राजभर प्रधान ने कहा कि भर / राजभर समाज के स्थिति काफी दयनीय है इसलिए हम लोग सरकार से भर/ राजभर जाति कोअनुसूचित जनजाति में शामिल करने की मांग करते हैं। ज्ञापन सौंपने वालों में मुख्य रूप से धर्मेंद्र राजभर प्रधान, राजेश राजभर प्रधान , प्रदीप राजभर, विजय राजभर, प्रकाश राजभर, केशव प्रसाद राजभर, धर्मेंद्र राजभर, भूषण राजभर, श्रवण राजभर, सूरज राजभर, रवी राजभर, विनय राजभर, संदीप राजभर , पवन राजभर , संजय राजभर सहित तमाम लोग मौजूद थे।