मामूली चोट के इलाज में घोर लापरवाही, पैर हुआ विकलांग

अवधनामा संवाददाता मरीज ने मुख्यमंत्री और सीएमओ से की शिकायत, हो डाक्टर के खिलाफ काररवाई लखनऊ (Lucknow)। शहर के एक सरकारी डॉक्टर की घोर लापरवाही के कारण मरीज को लाखों खर्च करने के बाद भी मामूली चोट के बावजूद अपना पैर गवांना पड़ गया। अब घोर आर्थिक संकट से घिरे मरीज ने अब मुख्यमंत्री और
 | 

मामूली चोट के इलाज में घोर लापरवाही, पैर हुआ विकलांगमामूली चोट के इलाज में घोर लापरवाही, पैर हुआ विकलांगअवधनामा संवाददाता

मरीज ने मुख्यमंत्री और सीएमओ से की
शिकायत, हो डाक्टर के खिलाफ काररवाई

लखनऊ (Lucknow)। शहर के एक सरकारी डॉक्टर की घोर लापरवाही के कारण मरीज को लाखों खर्च करने के बाद भी मामूली चोट के बावजूद अपना पैर गवांना पड़ गया। अब घोर आर्थिक संकट से घिरे मरीज ने अब मुख्यमंत्री और मुख्य चिकित्सा अधिकारी से शिकायत कर डॉक्टर के खिलाफ सख्त काररवाई करने की मांग की है। पहाड़पुर कुर्सी रोड निवासी दारा सिंह ने भेजे गये शिकायती पत्र में बताया है कि पैर में चोट के इलाज के लिये राम सागर मिश्र अस्पताल, बीकेटी में कार्यरत डॉक्टर एस0पी0 वर्मा को दिखाया था, जिन्होंने अस्पताल में इलाज न कर एक निजी हास्पिटल में ईलाज करवाने के लिये भेज दिया, जहां बीस दिनों तक इलाज के दौरान पैर पस फैल गया और जब मामला बिगड़ गया, तब मरीज अन्य हास्पिटल्स में इलाज के लिये गया, जहां पैर काटने की नौबत आ गयी, इसके बाद घबराकर अन्य एक बड़े निजी हास्पिटल में इलाज के लिये गया, जहां मेरे पैर का संक्रमण तो सही हो गया, लेकिन बांया पैर विकलांग हो गया। पैर विकलांग होने की वजह प्रारम्भ में बरती गयी लापरवाही रही, और इसे राम सागर मिश्र अस्पताल बीकेटी के डॉक्टर एस0पी0 वर्मा ने भी स्वयं स्वीकारी है, जिसकी रिकार्डिंग मेरे पास सुरक्षित है। इस पूरे प्रकरण में मेरा अब तक लगभग 25 लाख से अधिक खर्च हो गया जिसकी वजह से मेरी आर्थिक स्थिति बेहद खराब हो गयी और भविष्य में कोई रास्ता भी नजर नहीं आ रहा है, क्योंकि परिवार कमाने वाला मैं स्वयं ही हूं।