प्रियंका गाँधी की गिरफ़्तारी के खिलाफ कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने फूंका सीएम का पुतला

 | 
प्रियंका गाँधी की गिरफ़्तारी के खिलाफ  कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने फूंका सीएम का पुतला

अवधनामा संवाददाता

प्रयागराज : लखीमपुर खीरी में मृत किसानों के परिवार के लोगों से मिलने जा रही कांग्रेस पार्टी की राष्ट्रीय महासचिव व उत्तर प्रदेश प्रभारी प्रियंका गांधी वाड्रा को सीतापुर में हिरासत में लिए जाने और दो दिन बीत जाने के बाद भी रिहा नहीं करने के खिलाफ बुधवार को एनएसयूआई से जुड़े छात्रों ने इलाहाबाद विश्वविद्यालय के छात्रसंघ भवन पर मुख्यमंत्री का पुतला जलाकर विरोध दर्ज किया। उसी दौरान भाजपा सांसद केशरी देवी पटेल के निवास पर विरोध जताने के लिए जा रहे 31 कांग्रेसियों को पुलिस ने हिरासत में लेकर पुलिस लाइन पहुंचा दिया।  इस दौरान यूपी शासन और मुख्यमंत्री के खिलाफ नारेबाजी भी की गई। हालांकि इसी दौरान खबर आई कि प्रियंका को रिहा कर दिया गया है और वह लखीमपुर खीरी रवाना हो गई हैं।

पुतला दहल करने वाले एनएसयूआइ के छात्रों ने मांग रकी कि लखीमपुर खीरी कांड के आरोपियों की गिरफ्तारी हो, इसके साथ ही यूपी के गृह राज्य मंत्री से इस्तीफा लिया जाए। चन्द्रशेखर अधिकारी ने कहा कि पीड़ित व मृत किसानों के साथ न्याय हो और यदि जल्द से जल्द प्रियंका की रिहाई व आरोपियों की गिरफ्तारी नहीं होती है तो पूरे प्रदेश में उग्र प्रदर्शन करने को बाध्य होगी। पुतला दहन करने वालों में अमित द्विवेदी, वैभव सिंह, अमन गुप्ता, नीतीश सिंह, सत्यम कुशवाहा, सूरज शुक्ला, आदर्श भदौरिया, विवेक यादव आदि शामिल रहे। पुतला दहन के दौरान ही खबर आ गई कि सीतापुर में प्रियंका वाड्रा को रिहा कर दिया गया है। इस पर छात्रों ने प्रियंका के समर्थन और शासन विरोधी नारे लगाए। उल्लेखनीय है कि लखीमपुर खीरी की घटना के बाद राजनीति गर्म है। प्रियंका गांधी सोमवार को लखीमपुर के लिए रवाना हुई थीं तभी उन्हें सीतापुर में रोक लिया गया था। फिर गिरफ्तारी भी कर ली गई और मुकदमा लिखा गया। तब से ही कांग्रेस नेता और कार्यकर्ता नाराजगी जता रहे हैं। उधर, लखनऊ में राहुल गांधी को एयरपोर्ट पर रोकने और उनके धरने पर बैठने पर भी यहां कांग्रेसी आक्रोशित हो गए हैं। कांग्रेस के कुछ नेता और कार्यकर्ता भाजपा सांसद केशरी देवी पटेल  के निवास पर विरोध जताने के  लिए रवाना हुए तो उन्हें पत्थर गिरजाघर के पास पुलिस ने रोका और वज्र वाहन में बैठाकर पुलिस लाइन पहुंचा दिया।