हमारा भारत समाज राममय कहते हुए रामायण कांक्लेव का किया समापन : योगी आदित्यनाथ

 | 
 हमारा भारत समाज राममय कहते हुए रामायण कांक्लेव का किया समापन : योगी आदित्यनाथ

अवधनामा संवाददाता 

अयोध्या । उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा आज रामकथा पार्क में विगत 29 अगस्त 2021 को शुरू किये गये रामायण कान्क्लेव का समापन किया गया। इस अवसर पर  मुख्यमंत्री ने कहा कि भगवान राम सबके राम है और सभी के राम है और सभी हमारा भारत समाज राममय है। इसी परम्परा को आगे बढ़ाते हुये आज मैं इस कान्क्लेव का समापन कर रहा हूं। यह प्रदेश के 16 जनपदों में विभिन्न थीमों पर आधारित शुरू हुआ था इसमें आम जनमानस में नई पीढ़ी में राम के प्रति तथा राम के चरित्र को आम लोगों के प्रति बताने के उद्देश्य से किया गया था कि नयी पीढ़ी भी इसे जाने। आज इस अवसर पर आगामी 3 नवम्बर 2021 को होने वाले पंचम दीपोत्सव 2021 के तैयारी की समीक्षा करने आया हूं। इसी के कड़ी में इसका हम समापन कर रहे है तथा इस अवसर पर हम अयोध्या के पूज्य संतों का आर्शीवाद भी लेने आये है तथा उनका दर्शन भी करने आये है तथा उनका हमें सभी कार्यो में आर्शीवाद एवं मार्गदर्शन मिलता है। मुख्यमंत्री ने कहा कि आज अयोध्या के लिए रामायण कान्क्लेव का समापन एक और महत्वपूर्ण है। हमारे देश के यशस्वी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को अफगानिस्तान के काबुल शहर की एक लड़की ने भगवान राम को अर्पित करने के लिए काबुल नदी का जल भेजा था उसको हमारे प्रधानमंत्री ने कहा कि आप मुख्यमंत्री इसको रामलला के जन्मस्थान गर्भगृह में आप अर्पित किये। उसी को मैं भगवान रामलला का दर्शन करने के बाद गर्भगृह स्थान में अर्पित किया तथा इस अवसर पर विभिन्न चैनलों द्वारा इसका प्रसारण भी किया गया। यह भी आप सब अवगत है कि अयोध्या का अफगानिस्तान से गहरा सम्बंध है। हमारे अयोध्या की महाराजा दशरथ की एक महारानी एवं पूज्य भरत जी की माता कैकेयी अफगानिस्तान की है, केकय राज्य गन्धार से सम्बंध था। जिनके पिता  अश्वपति का अनेक जगहों पर उल्लेख मिलता है। मुख्यमंत्री जी द्वारा इस कार्यक्रम अयोध्या शोध संस्थान द्वारा प्रकाशित पुस्तक का विमोचन भी किया गया तथा योगी आदित्यनाथ ने कहा कि इस पुस्तक का साधु संतों को भी भेंट करें तथा रामायण कांक्लेव का दीप प्रज्जवलित कर शुभारम्भ किया। इस अवसर पर प्रदेश के पर्यटन एवं संस्कृति मंत्री एवं जनपद के प्रभारी मंत्री डा0 नीलकंठ तिवारी द्वारा रामायण कान्क्लेव पर विस्तृत प्रकाश डाला गया तथा संस्कृति विभाग का विशेष कार्यक्रम आम जनमानस को भगवान राम के चरित्र से जोड़ने का उद्देश्य बताया गया। इसके बाद मुख्यमंत्री जी द्वारा अयोध्या के लगभग 2 दर्जन से ज्यादा संतों को उनके स्थान पर जाकर सम्मानित किया गया। जिसमें सुरेश दास, राजकुमार दास, धर्मदास, मैथिलीरमण, शरण जीत, राम दास , जन्मेजय शरण , देवेन्द्रप्रसादाचार्य तथा आदि संतों को सम्मानित किया।

मुख्यमंत्री इसके पूर्व श्रीराम लला का दर्शन पूजन किया तथा गर्भगृह का भी अवलोकन किया एवं उस स्थल पर काबुल से आये हुये जल को अर्पित किया तथा कहा कि आतंकवाद से जूझ रहे अफगानिस्तान के बीच से यह बच्ची द्वारा भेजा गया यह जल अफगानिस्तान की सभी बेटियों की तरफ से प्रेषित जल है तथा सभी को इसकी भावना का सम्मान करते हुये मानवता की रक्षा के लिए आगे आना चाहिए और भगवान राम हमेशा ही मानवता की रक्षा करने के लिए आगे आये है।