सियासी ताकत देने के लिए एआईएमआईएम को बनाये विजयी: औवेसी

सपा भाजपा कांग्रेस व भाजपा पर जमकर किये तीखे प्रहार

 | 
सियासी ताकत देने के लिए एआईएमआईएम को बनाये विजयी: औवेसी

अवधनामा संवाददाता 

सहारनपुर। एआईएमआईएम के राष्ट्रीय अध्यक्ष व सांसद असदुद्दीन औवेसी ने कहा कि देश-प्रदेश के मुसलमानों को बुनियादी सियासत बनाने व राजनीतिक हिस्सेदारी दिलाने के उद्देश्य से वह उत्तर प्रदेश में पहुंचे है, क्योंकि आज देश प्रदेश की सरकारें उसी समाज को ताकत देने का काम कर रही है, जो अपने अधिकारो को पाने में मजबूत हो। उन्होंने कहा कि कांग्रेस, भाजपा, सपा व बसपा जैसे मौकापरस्त दलों ने बहकाने का काम किया है, अब हमंे किसी के बहकावे में नहीं है और निर्भय होकर उन्हंे सहयोग करंे, जिससे कि प्रदेश में उनकी सरकार बन सकें।

सांसद असदुद्दीन औवेसी आज यहां जनता रोड पर खुर्द बस स्टैण्ड पर आयोजित सभा को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि झूठे वायदो के कारण आज मुस्लिम समाज परेशान है। अब मुस्लिम समाज को कांग्रेस, सपा, बसपा व रालोद जैसे मौका परस्त दलों ने बहकाने का काम कर उन्हें वोट बैंक के रूप में इस्तेमाल किया है। उन्होंने केन्द्र व प्रदेश सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि आज दोनेां ही सरकारंे केवल उस समय को ताकत देने का काम कर रही है, जो पहले से ही ताकत में है और मुस्लिम समाज की उपेक्षा की जा रही है। उन्हांेने कहा कि आज मुस्लिमों की बद से बदतर हालत होती जा रही है। अब समय आ गया है कि वह निडर होकर गुलामी की स्थिति से बाहर आये और अपनी खुद की पार्टी एआईएमआईएम को मजबूत बनाने का काम करें। उन्होंने कहा कि उप्र में पार्टी को 20 विधायक मिल जाते है, वह एक नयी कयादत लिखने का काम करेंगे। उन्होंने सभी लोगो से आहवान करते हुए कहा कि आसमान से कोई भी नहीं उतरेगा, हमे अपनी कयादत बनानी होगी। अपनी सरकार के लिए हमें एक जुट होना होगा और बेखौफ होकर हमें अपनी मजबूती दिखानी होगी, जिससे कि प्रदेश में धर्म निरपेक्ष सरकार का गठन हो सकें और भयभीत होने की जरूरत नहीं है। उन्होंने भाजपा व संघ पर निशाना साधते हुए कहा कि जब संसद में संविधान संशोधन बिल लाया गया, तो उनके द्वारा पुरजोर विरोध किया गया और उन्होंने इस बिल को फाड़ डाला, जिससे सभी लोग सहम गए। उन्होंने कहा कि मजहब के नाम पर डरने की जरूरत नहीं है। उन्होंने पीएम नरेन्द्र मोदी व मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की कार्यशैली पर सवालिया निशान लगाते हुए कहा कि दोनों सरकार सबका साथ सबका विकास व सबका विश्वास की बात करती है, लेकिन मोदी सरकार ने तीन वर्षो में उप्र में प्रधानमंत्री आवास ग्रामीण योजना के अंतर्गत 30 मुस्लिमों के मकान नहीं बनाये, उन्हें मंजूर तो कर लिया गया, लेकिन बनाया नहीं गया। प्रधानमंत्री लखनऊ मे कहते है कि 18 लाख दीये जलाओ, लेकिन वह मुसलमानों के घर में रेाशनी की बात नहीं करते। आज तक भी मुस्लिमों के विकास के लिए कोई योजना नहीं बनायी गयी। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भले ही हम पर देशद्रोही का मुकदमा क्यों न कर दें, इससे भयभीत वह नहीं होने वाले। उन्होंने कहा कि उप्र के मु.नगर में आजादी के वर्षो बाद हुए दंगे में 50 हजार मुसलमानों को अपने घर छोड़ने पड़े और कैम्पों में जिंदगी गुजारनी पड़ी। जब पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव सैफई में नाच गाना करा रहे थे, तो मुसलमान कैम्पों में ठंड से कपकंपा रहे थे और योगी सरकार ने उससे दो कदम बढ़कर काम किया है। मुसलमानो में खौफ पैदा कर उन्हें भयभीत करने का काम कर रही है। ऐसे में हमें निडर बेखौफ होकर अपनी सियासी कयादत बनानी होगी। इसी के लिए आज वह यहां आये है। आज सभी लोगों से आह्वान करते हुए कहा कि अपनी मजलिस को मजबूत बनाने का काम करें और अपनी सरकार बनाने के लिए उनकी पार्टी को सियासी ताकत देने का काम करें, तभी उनकी समस्याओं को समाप्त किया जा सकता है। इस अवसर पर प्रदेश महामंत्री पवन अम्बेडकर, जिलाध्यक्ष वसीम अहमद आदि कई लोग प्रमुख रूप से मौजूद रहे।