लेह लद्दाख चरम प्राचीन सुदंरता का एक आकर्षक रूप: रितेश

 | 
लेह लद्दाख चरम प्राचीन सुदंरता का एक आकर्षक रूप: रितेश

अवधनामा संवाददाता

अयोध्या! रामनगर कालोनी स्थित शिवालय परिवार पहुंचने पर सिंधी समाज ने रितेश मोटवानी का स्वागत किया और सफल यात्रा की बधाई दी दो पहिया वाहन से रामनगर कालोनी निवासी युवा व्यवसायी रितेश मोटवानी लेह लद्दाख के लिए 11सितंबर को रवाना हुए थे लेह की यह उनकी तीसरी बार यात्रा है 15 दिवसीय यात्रा लगभग  2 हजार किलोमीटर दूरी की है रितेश 19 सिंतबर को लेह पहुंचे और 26 सिंतबर रविवार देर शाम अयोध्या पहुंचे जहां पर शिवालय परिवार के महन्त गणेश राय की अगुवाई में सिंधी समाज ने माला पहनाकर व शाल ओढ़ाकर स्वागत किया इससे पूर्व रितेश पहाड़गंज स्थित श्री आनंदपुर दरबार में माथा टेका शिवालय परिवार में आयोजित स्वागत समारोह मे प्रेम प्रकाश आश्रम के संत भावन दास ने रितेश को आशीर्वाद दिया अयोध्या से लेह आने जाने की दूरी लगभग चार हजार किलोमीटर की है जिसमे सोलहा दिन लगते है इस मौके पर रितेश ने यात्रा करने का उद्देशय बताते हुए कहा कि यह मेरी तीसरी यात्रा है प्राकृतिक सुदंरता का आनंद व सिंधु नदी का दर्शन व जल लेने का मुख्य उददेश्य था  लेह लद्दाख चरम प्राचीन सुदंरता का एक आकर्षक रूप है यह जगह प्राचीन मठो,धार्मिक स्थलो, प्राचीन महलो,पर्वत चोटियो व वन्य जीव आदि के लिए प्रसिद्व है जिसका अवलोकन किया रितेश अपने साथ लाऐ सिंधु नदी के जल से शिवलिंग पर जलाभिषेक किया ‌। इस मौके पर ओमप्रकाश ओमी व रितेश के पिता व भक्त प्रहलाद सेवा समिति के अध्यक्ष राजकुमार मोटवानी, सिंधु महिला परिवार की महासचिव माता सरिता मोटवानी व पत्नी मणी मोटवानी और पुत्र लविक ने माला पहनाकर स्वागत किया समारोह मे मौजूद आसूदाराम बतरा, तेजकुमार माखेजा,कन्हैया लाल,हरीश वलेशाह, प्रकाश रूपानी,शंकर केवलरामानी, हुंदराज माखेजा,अनिल उतरानी व बडी संख्या में महिलाओ ने रितेश का स्वागत कर सफल यात्रा की बधाई दी।