मांगे पूरी नही हुई तो 30 नवम्बर को लखनऊ में धरना देकर सरकार को उखाड़ फेंकेंगे

पुरानी पेंशन बहाली को लेकर जिला मुख्यालय पर कर्मचारी, शिक्षक व अधिकारी दिए धरना 

 | 
मांगे पूरी नही हुई तो 30 नवम्बर को लखनऊ में धरना देकर सरकार को उखाड़ फेंकेंगे

अवधनामा संवाददाता 

कुशीनगर। प्रदेश नेतृव के आह्वान पर कर्मचारी, शिक्षक, अधिकारी एवं पेंशनर्स अधिकार मंच के बैनर तले कुशीनगर में गुरुवार को विकास भवन पर विशाल धरना प्रदर्शन किया। 21 सूत्रीय मांगों को लेकर जनपद कुशीनगर के विभिन्न ब्लाकों से शिक्षक और कर्मचारियों के सभी संगठनों ने एकजुट हो सरकार के खिलाफ हुंकार भरी। 

कर्मचारी नेताओ ने कहा कि यदि 29 नवंबर तक मांगें नही पूरी हुई तो 30 नवम्बर को लखनऊ में ऐतिहासिक धरना दे सरकार को उखाड़ने का काम किया जाएगा। धरना स्थल पर पहुंच एडीएम देवी दयाल वर्मा ने मुख्यमंत्री को संबोधित ज्ञापन लिया। संयोजक प्रभुनंद उपाध्याय ने कर्मचारी एवं शिक्षकों के लिए पुरानी पेंशन को बेहद आवश्यक बताया। अध्यक्ष राज कुमार सिंह ने संचालन करते हुए कहा कि यह धरना सरकार के कान खोलने का कार्य करेगा। विशिष्ट बीटीसी शिक्षक वेलफेयर एसोसिएशन के जिलाध्यक्ष राजेश शुक्ला ने सभी कर्मचारी व शिक्षकों का आह्वान करते हुए कहा कि यह धरना पुरानी पेंशन के साथ-साथ कर्मचारियो, रसोइयों, शिक्षामित्र, अनुदेशकों व संविदाकर्मियों के विभिन्न मांगों को लेकर भी रखा गया है जिसे सरकार को सुनना ही पड़ेगा। धरने को अरविंद सिंह, अमिताभ त्रिपाठी, अरुणेन्द्र राय, श्रीकांत यादव, हरिश्चन्द्र मिश्र, अनूप सिंह, टी बी सेवा के प्रदेश उपाध्यक्ष आशुतोष मिश्र, सुरेश प्रसाद, राजेश तिवारी, निलेश राव, मनोरमा द्विवेदी ने भी संबोधित किया।

इस अवसर पर राकेश मणि त्रिपाठी, महेश कर्णधार, मेहरुद्दीन, अयोध्या पाण्डेय, दीपक, अभिषेक सुनील पाण्डेय, संजय यादव, अमर प्रकाश पाण्डेय, हरेंद्र राय, नीलम सिंह, सरिता सिंह, वेद प्यकाश शर्मा, विद्यासागर पांडे, फरहाद, देवेन्द्र ओझा, महेश चतुर्वेदी समेत सैकड़ों शिक्षक एवं कर्मचारियों उपस्थित रहे।