भाजपा सरकार में सर्वाधिक उत्पीडि़त है किसान : तिलकचंद अहिरवार

सपा प्रदेश महासचिव ने मृतक किसानों के परिजनों से की मुलाकात

 | 
भाजपा सरकार में सर्वाधिक उत्पीडि़त है किसान : तिलकचंद अहिरवार

अवधनामा संवाददाता 

ललितपुर। जिले में बढ़ी खाद की समस्या के चलते किसानों द्वारा की गयी आत्महत्या के बाद मृतक किसानों के परिजनों से मुलाकात करने के लिए समाजवादी पार्टी के प्रदेश महासचिव तिलकचंद्र अहिरवार (पूर्व एमएलसी) ललितपुर पहुंचे। यहां समाजवादी पार्टी कार्यकर्ताओं ने जिला सहकारी बैंक के पूर्व अध्यक्ष फूलसिंह नन्ना के नेतृत्व में प्रदेश महासचिव का भव्यता से स्वागत किया। पार्टी कार्यालय पर कार्यकर्ताओं से मुलाकात करने के बाद पूर्व एमएलसी/प्रदेश महासचिव तिलकचंद्र अहिरवार ललितपुर तहसील के ग्राम मैलवाराखुर्द एवं तहसील पाली के ग्राम बनयाना थाना नाराहट में मृतक किसानों के परिजनों से मुलाकात करने पहुंचे।

पूर्व एमएलसी/प्रदेश महासचिव तिलकचंद्र अहिरवार ने कहा कि भाजपा शासित राज्यों के किसानों पर डीजल के बढ़े दामों ने काफी आर्थिक बोझ तले दबा दिया है, तो वहीं अब दूसरी ओर खाद की प्राईवेट सेक्टर के इशारे पर बनाई गयी कृत्रिम समस्या ने किसानों को उत्पीडि़त कर दिया है। उन्होंने कहा कि खाद लेने के लिए कई-कई दिनों तक लाइन में खड़े किसानों की मौत हो गयी है, जो कि काफी निंदनीय है। कहा कि जो सरकार स्वयं को किसानों का सबसे बड़ा हितैषी बताते हुये आय को दोगुना करने का दावा करती थी, उसी सरकार के शासनकाल में खरीफ फसल बर्बाद होने के बाद अब खाद की समस्या के चलते असमय हो रहीं मौतों ने भाजपा सरकार के खोखले दावों की पोल खोलकर रख दी है। उन्होंने कहा कि इस समय किसान सबसे अधिक पीडि़त है। बैंकों व साहूकारों से कर्जा लेकर अपने खेतों में फसल बुवाई करने के लिए खाद की उपलब्धता के लिए भटक रहे किसानों की सुध लेने वाला भी कोई नहीं है। ऐसे में समाजवादी पार्टी किसानों के साथ कंधे से कंधा लगाकर खड़ी है। प्रदेश महासचिव तिलकचंद्र अहिरवार ने बताया कि ग्राम मैलवारा खुर्द निवासी किसान सोनी अहिरवार पुत्र सुम्मा अहिरवार ने फांसी लगाकर जान दी तो वहीं थाना नाराहट क्षेत्र के ग्राम बनयाना निवासी महेश पुत्र प्रकाश की हालत बिगड़ जाने से मौत हुयी है। उन्होंने किसानों की असमय होने वाली इन मौतों का जिम्मेवार भाजपा सरकार व स्थानीय प्रशासन को ठहराया। उन्होंने कहा कि मृतक किसानों के बच्चों व उनके परिजनों का भरण पोषण कौन करेगा, यह सरकार को चिन्ता का विषय होना चाहिए। लेकिन सरकार को किसानों की चिन्ता ही नहीं हैं। इस दौरान पूर्व विधायक रमेश कुशवाहा, ज्योति सिंह लोधी, प्रदीप कुशवाहा झांसी, अरविंद अहिरवार झांसी, स्वामी प्रसाद एड (प्रभारी ललितपुर), जगदीश कंचन, जितेंद्र सिंह जीतू, जिला प्रवक्ता खुशालचन्द्र साहू, अशोक अहिरवार जिला सचिव, अमर सिंह भैरा, मुन्ना लाल रजक, रामविलास रजक, शिल्पी रजक, गिरधारी सिंह, नेपाल सिंह, पीतम अहिरवार, गीता मिश्रा, सुरेंद्र गौतम, विनोद रैकवार, शाकिर अली, डा.सुनील परिहार, नरेंद्र राजपूत, रूपसिंह भैला, शत्रुघन सिंह,ऋतुराज नाराहट, अजय नाथ, खोजन सिंह लोधी, संतोष अहिरवार, दुलीचंद, धनीराम अहिरवार, नन्हे भाई अहिरवार, रामसिंह, खूबचंद रजक, हरदयाल सहरिया, कालूराम बुनकर, प्रमोद कुमार, पुष्पेंद्र यादव के अलावा अनेकों लोग मौजूद रहे।