कंगना की सफलता पर माता-पिता बोले, बेटी ने किया नाम रोशन

 | 
कंगना की सफलता पर माता-पिता बोले, बेटी ने किया नाम रोशन

नई दिल्ली  'यह मेरे काम का सम्मान है। बतौर कलाकार कई सम्मान मिले हैं, लेकिन आज एक आदर्श नागरिक की तरह पद्मश्री का सम्मान मिला है।Ó पद्मश्री से अलंकृत होने के बाद अभिनेत्री कंगना रनौत ने खुशी का इजहार करते हुए कहा कि इस सम्मान से कई लोगों के मुंह बंद होंगे। इंटरनेट मीडिया पर जारी वीडियो में कंगना ने कहा कि बतौर अभिनेत्री उन्हें सफलता हासिल करने में आठ से 10 साल लगे, लेकिन जब सफल हुई तो उन्होंने कई प्रोडक्शन हाउस समेत आइटम नंबर करने से मना किया। साथ ही देश विरोधी ताकतों के खिलाफ आवाज बुलंद की। इस कारण उन पर कई केस चले। पैसे से ज्यादा उनके दुश्मन बन गए। उस समय लोग कहते थे कि तुम्हें यह सब करके क्या मिलता है, उन लोगों को जवाब पद्मश्री के रूप में मिला है। इसके लिए वह सरकार की आभारी हैं।

बेटी की सफलता पर पिता अमनदीप रनौत और माता आशा रनौत ने कहा कि कंगना ने अपनी मेहनत और लोगों के आशीर्वाद से यह सम्मान हासिल किया है। उसने परिवार सहित प्रदेश का नाम भी रोशन कर दिया। अमनदीप रनौत ने कहा कि कंगना की नई फिल्म 'टिकू वर्सेस शेरू' के पोस्टर रिलीज के कार्यक्रम के चलते वह पद्मश्री सम्मान समारोह में भाग नहीं ले सके, लेकिन उनको बेटी पर गर्व है। कई मुश्किलें देखने के बावजूद कंगना ने अपने कदम नहीं रोके और आज वह इस मुकाम तक पहुंची और पद्मश्री जैसा बड़ा सम्मान मिला है। अब कंगना अपनी नई फिल्म की शूटिंग में व्यस्त रहेंगी तथा एक-दो माह तक वह हिमाचल नहीं आ पाएंगी।

कंगना रनौत मंडी जिले के सरकाघाट उपमंडल के बदोही गांव की रहने वाली हैं। कंगना को पहले चार राष्ट्रीय सम्मान मिल चुके हैं। इसमें सर्वश्रेष्ठ सपोटिंग एक्टर के अलावा 2016 में तनु वेड्स मनु फिल्म के लिए राष्ट्रीय पुरस्कार, मनिकर्णिका व पंगा के लिए सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री सहित अन्य सम्मान शामिल हैं।