ओमिक्रॉन के बढ़ते प्रकोप की वजह से बाजार धराशाई : डूब गए निवेशकों के 7.23 लाख करोड़, निफ्टी 430 पॉइंट्स फिसला

 | 
ओमिक्रॉन के बढ़ते प्रकोप की वजह से बाजार धरासाई : डूब गए निवेशकों के 7.23 लाख करोड़, निफ्टी 430 पॉइंट्स फिसला

 रांची : ओमिक्रॉन का असर शेयर बाजार पर भी देखने को मिला. महामारी के बढ़ते प्रकोप की वजह से बाजार धरासाई हो गया है. आज सोमवार को हफ्ते के पहले ही दिन शेयर बाजार में भारी गिरावट दर्ज हुई. सेंसेक्स इस समय 1400 पॉइंट्स टूटकर 55,614 पर पहुंच गया है. इस वजह से पहले ही 60 सेकेंड में मार्केट कैप 5.53 लाख करोड़ रुपए घटकर 253.94 लाख करोड़ पर आ पहुंचा था. वर्तमान में यह 252.23 लाख करोड़ रुपए है, यानी 7.23 लाख करोड़ की कमी आई है. यानी निवेशकों के खाते में आने वाला 7.23 लाख करोड़ डूब गया, ऐसा माना जा रहा है. 
 
गिरावट का मुख्य कारण ओमिक्रॉन के बढ़ते मामले, विदेशी निवेशकों द्वारा बिकवाली और सेंट्रल बैंक द्वारा ब्याज दरों को बढ़ाए जाने की आशंका है. पिछले 40 दिनों में विदेशी निवेशकों(FII)ने बाजार से 80 हजार करोड़ रुपए निकाल लिए हैं. बैंक ऑफ इंग्लैंड ने अचानक 0.15 से 0.25% रेट बढ़ा कर चौंका दिया है.
 
बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (BSE) का सेंसेक्स आज 494 पॉइंट्स टूटकर 56,517 पर खुला था. हालांकि इसने पहले ही मिनट में 56,104 का निचला स्तर भी बना लिया. सेंसेक्स के 30 शेयर्स में केवल सनफार्मा ही बढ़त में हैं. बाकी इसके 29 शेयर्स में भारी गिरावट है. टाटा स्टील और SBI 4-4% से ज्यादा गिरे, जबकि HDFC बैंक, इंडसइंड बैंक, बजाज फिनसर्व, महिंद्रा एंड महिंद्रा, अल्ट्राटेक, एक्सिस बैंक, बजाज फाइनेंस, एयरटेल, टेक महिंद्रा जैसे शेयर 3-3% से ज्यादा टूटे हैं.