मैक्वायरी इंडिया ने 25% तक घटाया टारगेट, पेटीएम रिकॉर्ड निचले स्तर तक जाने की आशंका

 | 
मैक्वायरी इंडिया ने 25% तक घटाया टारगेट, पेटीएम रिकॉर्ड निचले स्तर तक जाने की आशंका 

नई दिल्ली । पेटीएम (Paytm) की पैरेंट कंपनी वन97 कम्युनिकेशंस (One97 Communications) के शेयर 2 प्रतिशत से अधिक गिरकर 52-सप्ताह के निचले स्तर पर आ गए। मैक्वायरी सिक्योरिटीज इंडिया (Macquarie Securities India) ने कहा कि कंपनी की भविष्य की अर्निंग ग्रोथ पहले के अनुमान से भी बदतर हो सकती है जिसके बाद आज इसके शेयरों में जोरदार गिरावट नजर आई।

आज यानी 10 जनवरी को नेशनल स्टॉक एक्सचेंज पर स्टॉक गिरकर 1,201.25 रुपये पर आ गया।

ब्रोकरेज फर्म ने स्टॉक के लिए अपने लक्ष्य को पहले के 1,200 रुपये से 25 प्रतिशत घटाकर 900 रुपये कर दिया, जिसका अर्थ है कि 7 जनवरी को शेयर के बंद भाव से इसमें 28 प्रतिशत की और गिरावट आ सकती है। Macquarie ने स्टॉक पर अपनी 'अंडरपरफॉर्म' रेटिंग बरकरार रखी।

कंपनी के लिए Macquarie ने रेटिंग इसलिए घटाई हैं क्योंकि स्टॉक 18 नवंबर को अपने 1,955 रुपये के उच्च स्तर से 38 प्रतिशत से अधिक गिर चुका है और जिसके बाद दलाल स्ट्रीट और निराशाजनक प्रदर्शन किया।

Macquarie ने एक नोट में कहा, "विभिन्न व्यावसायिक अपडेट और नतीजों के बाद हमें विश्वास है कि विशेष रूप से डिस्ट्रीब्यूशन पर कमाई का अनुमान कम रह सकता है।"

ब्रोकरेज ने कम डिस्ट्रीब्यूशन और क्लाउड रेवेन्यू के कारण 2025-26 तक पेटीएम के कमाई में प्रति वर्ष औसतन 10 प्रतिशत की कटौती की। मैक्वायरी का अनुमान है कि पेटीएम का की कमाई अगले पांच वर्षों में 23 प्रतिशत की दर से बढ़ेगी, जबकि पहले यह अनुमान 26 प्रतिशत था।

डीमार्ट के मुनाफे में 23% का उछाल, जानें स्टॉक पर दिग्गज ब्रोकरेजेस की निवेश राय

ब्रोकरेज फर्म ने कहा कि भारतीय रिजर्व बैंक के डिजिटल भुगतान पर शुल्क लगाने का नवीनतम प्रस्ताव कंपनी की कमाई को प्रभावित कर सकता है। इसके साथ ही इंश्योरेंस ब्रोकिंग के लिए पेटीएम के आवेदन की हालिया अस्वीकृति और नियामक बाधाओं को दूर करने में आने वाली चुनौती से भी इसमें जोखिम बढ़ रहा है।

Macquarie ने कहा, "वरिष्ठ अधिकारी पेटीएम से इस्तीफा दे रहे हैं, जो चिंता का कारण है और हमारे विचार उनका इस्तीफा कारोबार को प्रभावित कर सकता है।"

Macquarie ने आगे कहा “इस समय हमें नहीं लगता कि यह मेनी मर्चेंट लोन में कारोबार हो रहा बल्कि इसके अधिकांश लोन छोटे मूल्य के बीएनपीएल (बाय नाउ पे लेटर) प्रकार के लोन हैं। इसलिए उनके द्वारा अंतिम रूप से प्राप्त होने वाली डिस्ट्रीब्यूशन फीस हमारे पहले के अनुमानों की तुलना में बहुत कम होने की संभावना है। ”