आंख के पीछे के ट्यूमर का डा अनूप ने किया सफल ऑपरेशन

 | 
आंख के पीछे के ट्यूमर का डा अनूप ने किया सफल ऑपरेशन

अवधनामा संवाददाता 

आजमगढ़ (Azamgarh)। लाइफ लाइफ लाइन हॉस्पिटल के डॉक्टरों की टीम ने एक बड़ा व सफल ऑपरेशन कर अधेड़ उम्र के मरीज के आंख के पीछे से ट्यूमर को ऑपरेशन के जरिए हटाया है। चार डॉक्टरों की विशेष टीम ने करीब 6 घण्टे की कठिन मेहनत व उच्च स्तरीय तकनीक की बदौलत इस सर्जरी को संपन्न किया। एक हफ्ते बाद से ही मरीज को आराम मिल गया। खास बात है कि गाजीपुर निवासी पीड़ित परिवार गाजीपुर के अलावा, मऊ, वाराणसी व लखनऊ का चक्कर लगाया। एसजी पीजीआई से रेफर कर दिया गया था। दिल्ली तक भी गए लेकिन अंत में आजमगढ़ में सफल ऑपरेशन के बाद नई जिंदगी मिल गई। गाजीपुर जिले के निवासी रमेश यादव को उनकी आँख की रोशनी न्यूरो सर्जन डॉ.अनूप सिंह यादव के प्रयास से वापस मिली। उनकी बायी आँख बाहर की तरफ आ गई थी। साथ ही रोशनी जा चुकी थी। डाक्टर ने मरीज को देखने के बाद जांच कराई, इस दौरान पता चला कि रमेश यादव की बायी आँख के पीछे एक साढ़े तीन गुणा ढाई सेंटीमीटर का बड़ा ट्यूमर था, जो आंखों को बाहर की तरफ धकेल रहा था। साथ ही नसों पर दबाव होने से रोशनी जाने लगी थी। रोग का पता चलने पर उसका उपचार ऑपरेशन था, लेकिन चुनौती थी, ट्यूमर निकालने के दौरान नसों को बचाना, क्योकि यदि कोई नस डैमेज होती तो इसका सीधा असर रोशनी पर पड़ता। डाक्टर अनूप ने चुनौती को स्वीकार कर रमेश का ऑपरेशन 13 अगस्त को किया। करीब छह घंटे से अधिक समय तक चले ऑपरेशन के दौरान डॉ. अनूप ने सिर की हड्डी को काटकर और आंख के पीछे से जा कर ट्यूमर को निकाला इससे नसों को बचाते हुए ऑपरेशन सफल हुआ। आज रमेश की आँख तो बची साथ ही रोशनी भी वापस आ चुकी है। ऑर्बिटल साल नामक इस बीमारी का पूर्वांचल में इस तरह का यह पहला सफल ऑपरेशन है। अभी तक इस तरह का ऑपरेशन दिल्ली, मुंबई के बड़े अस्पतालों में ही हुआ करता था। ऑपरेशन की डॉक्टर्स की टीम में डॉ. आकाश डॉ. गायत्री एवं डॉ. आशीष शामिल थे।